Skip to main content

Lyrics Wiki Blog 3 : आपके पहलू में आकर रो दिये - आशा भोंसले [मेरा साया (1966)]

Movie/Album: मेरा साया (1966)
Singer / Singer : मोहम्मद रफ़ी
Music By: मदन मोहन
Lyrics By: राजा मेहदी अली खान
Performed By: आशा भोंसले
------------------------------------------
*****************************
आपके पहलू में आकर रो दिये, आपके पहलू में आकर रो दिये
दास्तान-ए-ग़म सुनाकर रो दिये
आपके पहलू में आकर रो दिये

ज़िन्दगी ने कर दिया जब भी उदास
आ गये घबरा के हम मंज़िल के पास
सर झुकाया, सर झुकाकर रो दिये
आपके पहलू में आकर रो दिये

शाम जब आँसू बहाती आ गई, शाम जब आँसू बहाती आ गई
हर तरफ़ ग़म की उदासी छा गई
दीप यादों के जलाकर रो दिये
आपके पहलू में आकर रो दिये

ग़म जुदाई का सहा जाता नहीं
आपके बिन अब रहा जाता नहीं
प्यार में क्या-क्या गँवाकर रो दिये
दास्तान-ए-ग़म सुनाकर रो दिये
आपके पहलू में आकर रो दिये
*****************************
------------------------------------------
------------------------------------------
*****************************
------------------------------------------
*****अन्य गाने *****
------------------------------------------
#     शीर्षक                         सिंगर
1     "झुमका गिरा रे "           आशा भोसले
2     "आप के पहलू में "         मोहम्मद रफी
3     "मेरा साया साथ "          लता मंगेशकर
4     "नैनों में बदरा"             लता मंगेशकर
5     "नैनों वाली ने "             आशा भोसले
6     "मेरा साया साथ -2"      लता मंगेशकर
*****************************
------------------------------------------

Comments

Popular posts from this blog

Lyrics Wiki Blog 11 : 'अजय' अमदन भी कोई मरता है, क्या?

इश्क़ है जनाब...बस हो जाता है, अमदन कौन करता है । अरे... #बाबूकीजान इश्क़िया रास्ते है, कोई कहकशाँ तो नहीं कोई अमदन भी मरता है, क्या? ---------------------------------------- अजय गंगवार 30-April-2020 11:20 PM #ajayapril1991 #loveUzindgi #बाबूकीजान ---------------------------------------- Meaning : अमदन [amdan] Intentionally, Wilfully समझते-बूझते हुए, जान-बूझकर, निश्चयपूर्वक, इरादे के साथ कहकशाँ [kahkashaan] The Milkyway, Galaxy आकाशगंगा

Lyrics Wiki Blog 14 : क्या? अपने वारे में सोचकर, आपको शर्मिंदगी महसूस होती है

क्या? अपने बारे में सोचकर, आपको शर्मिंदगी महसूस होती है, क्या? कभी आप कुछ और बनना चाहते थे। हर कोई अमीर, ज्यादा बुद्धिमान, ज्यादा सुन्दर और भाग्य के लिए न जाने क्या-क्या करते हैं। मैं बिल्कुल अलग बन गया हूँ, खुद को पहचान भी नहीं पा रहा हूँ। कुछ और बनने की कोशिस में क्या? कभी आपने खुद को खो दिया है, आप मुझे नहीं समझ सकते है। मुझे ये भी नहीं पता मैं कौन हूँ, या मैं क्या कर रहा हूँ, तो फिर आप मुझे कैसे समझोगे। -------------------------------------------------------- From :  #EP44-  The Girl Name Feriha Season 2 -------------------------------------------------------- अजय गंगवार 9-May-2020 3:23 AM #ajayapril1991 #loveUzindgi #बाबूकीजान --------------------------------------------------------

Lyrics Wiki Blog 25 : तुमने देखा है जरूर आँखों को... पर तुमने आँखों में कहाँ देखा है...